Trump-Darroch Spat & Admiral Awati

National Defence Academy, Khadakwasla (1977).

Rear Admiral MP Avati (later, Vice Admiral), the Commandant, wasn’t amused when cadets mocked him on the stage. It was an Inter Battalion Dramatics Competition and cadets acting as roadside magicians (madaris) had gone overboard with their act. With the wave of a wand one had turned an on-stage Admiral Awati into a goat; and the goat went bleating until the play lasted. The antics of the cadets were in bad taste.

Few appreciated that stage performance. Yet, to everyone’s surprise, the Admiral walked up to the stage after the play and started bleating somewhat like the cadets had done a while ago. He waited for the officers and the families to vacate the auditorium and when only the cadets were left behind in that closed space, he made another small speech, the sum and substance of which was: “Future officers of the Indian armed forces do not behave like this. I don’t approve of this sense of humour.”

Vice Admiral MP Awati PVSM VrC (graphic courtesy Latestlaws.com)

In the following days, did some heads roll? Were the producer, director and actors of the skit taken to task? Might have been; might not. Most of us never came to know. In fact, nearly half a century later, all that is of no relevance. What is really relevant is the message that went down to a thousand five hundred future officers, and through them, to thousands more. And the message was not about ‘mocking/ not mocking superiors’, but a more serious one––it was about the art of speaking one’s mind and leaving a lasting impression.

Fast-forward forty years; a different geographical location; different characters but quite a similar situation in some ways. When Ambassador Sir Kim Darroch wrote a memo to his government expressing his ‘free and frank’ opinion about President Trump and his Administration, he was performing his solemn duty as UK’s representative in the US. It is just that the confidential communication got leaked and embarrassed the governments and a whole lot of individuals on either side of the Atlantic.

The spat that followed is unprecedented. President Trump stopped short of declaring Ambassador Darroch persona non grata. Saying, “We will no longer deal with the ambassador,” and calling Sir Darroch, “Whacky,” was no less damaging. It would perhaps have been a different spectacle, had President Trump dealt with the situation in a more amicable way––like Admiral Awati––behind closed doors.

All-weather Friends?

Needless to say, at this moment the US-UK relations are at their lowest ebb since the Boston Tea Party. Yet, Ambassador Darroch’s resignation is not likely to be the proverbial last nail in the coffin of their partnership––they cannot afford to let it be. Even in times of extreme crisis these two all-weather friends have lived with certain amount of lack of trust. At the peak of World War II (1944), the Americans had put the pilots of the RAF in a (friendly) lock up in Purulia to maintain the secrecy of their B-29 Super Fortress bomber operations against the Japanese.

Country’s interest comes first!

Today, both UK and US are facing the worst crisis since World War II. The US is grappling with Iran, China, Syria, North Korea and Mexico (not to talk of the irritant that has cropped up because of President Trump’s recent racist tweets against congresswomen). The UK, on the other hand, has its hands full with Brexit and the urgency to form a new and stable government. The sacrifice of a diplomat on the altar of their mutual relations would be put on the back-burner for the time being; to be put under the carpet later.

At this juncture, any further dip in relations will be a monumental mutual loss. In a zero-sum game, who’ll gain from their strain? A third party?

“दान” बनाम “अर्पण”

अभिस्वीकृति

बात अस्सी के दशक की है। टाइम्स आई रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से भारतीय डाक तार विभाग ने नेत्र दान विषय पर डाक टिकिट जारी करने के लिए एक प्रतियोगिता आयोजित की थी। इस तरह के सामाजिक अभियानों में मेरी आस्था ने मुझे इस पहल में शामिल होने के लिए प्रेरित किया। मेरी कल्पना ने एक उड़ान भरी और मैं डाक टिकिट के लिए एक नमूना बनाने जुट गया। जल्दी ही मैंने अपनी प्रविष्टि टाइम्स आई फाउंडेशन को भेज दी।

दो शब्द मेरी प्रविष्टि के बारे में…

नेत्र दान

एक तरफ मैंने एक मानवीय चेहरे का रेखाचित्र बनाया था जिसमें आँख की जगह रिक्त (सफ़ेद) स्थान छोड़ा था जो कि अंधापन दर्शा रहा था। दूसरी तरफ मैंने एक हथेली बनाई थी जिसकी मुद्रा भगवानों की तस्वीरों में आशीर्वाद देते हाथ की होती है। हथेली के मध्य में मैंने एक आँख बनाई थी जिससे निकलती प्रकाश की किरणे अंधे व्यक्ति पर पड़ रही थीं। मेरी कल्पना में हथेली में बनी आँख से निकल कर अंधे चेहरे पर पड़ती प्रकाश की किरणे दृष्टि (नेत्र) दान की द्योतक थीं। मेरे मित्रों ने मेरी कलाकृति की खूब प्रशंसा की थी। निश्चय ही मैं अपने प्रयास से संतुष्ट था। टाइम्स आई रिसर्च फाउंडेशन ने भी मेरी प्रविष्टि को स्वीकार कर लिया था। कुछ ही समय में मैं उस प्रतियोगिता को भूल सा गया था।

एक दिन, अचानक ही मेरी दृष्टि टाइम्स ऑफ़ इंडिया में भारतीय डाक-तार विभाग द्वारा नेत्र दान पर जारी किये गए डाक टिकिट की तस्वीर पर पड़ी। वह तस्वीर मेरी भेजी हुई प्रविष्टि से बहुत मिलती थी। पहली नज़र में तो मुझे वह मेरी ही भेजी हुई कलाकृति लगी। गौर से देखने पर एक छोटी-सी, परन्तु अत्यंत ही अर्थपूर्ण भिन्नता दिखाई दी जिसने जीवन के बारे में मेरे दृष्टिकोण को सदा के लिए बदल दिया।

नेत्रार्पण

डाक टिकिट के लिए चयनित एवं पुरस्कृत चित्र में एक की जगह दो हथेलियां प्रदर्शित की गयीं थीं। दोनों का रुख आसमान की तरफ था। हाथों की मुद्रा ऐसी थी मानो मंदिर में चढ़ावा दिया जा रहा हो। हथेलियों में एक आँख चित्रित थी जिसमें से निकल कर प्रकाश की किरणे अंधे चेहरे पर पड़ रही थीं––मेरे बनाए चित्र की तरह। अंतर केवल इतना था कि तस्वीर से एक भाव छलक रहा था जो मेरे बनाए चित्र से स्पष्ट रूप से नदारद था –– ‘अर्पण’ करने का भाव। उस चित्र में दाता-याचक का समीकरण नहीं था अपितु दृष्टि देने वाले की विनम्रता और दृष्टि पाने वाले की गरिमा छलक रही थी।

यद्यपि वह डाक टिकिट ‘नेत्र दान’ के लिये प्रेरणा देने के लिए था, उस दिन मैंने ‘दान’ और ‘अर्पण’ शब्दों के अर्थ के अंतर को भली-भांति जाना था; ‘दान’ शब्द में निहित अहंकार को समझा था और ‘अर्पण’ की भावना का अनुभव कर पाया था।

सोचता हूँ, क्या नाम बदलने से लोगों की सोच में बदलाव आ सकता है? क्या लोग दान की भावना को छोड़ अर्पण की भावना को अपना सकते हैं? नेत्रार्पण; रक्तार्पण; देहार्पण?

इस विषय पर इतना लिख कर मैं अपनी कलम को अवकाश दे चुका था। परन्तु मेरी प्रिय बहन की एक टिप्पणी ने मुझे कुछ और शब्द लिखने के लिए उत्साहित किया है। मेरा लेख पढ़कर मेरी बहन ने हास्य-पूर्ण तरीके से मेरा ध्यान “कन्यादान” और “कन्यार्पण” की ओर आकर्षित किया है और मेरी प्रतिक्रिया जाननी चाही है। मैं समझता हूँ कि आज के भारत में इन दोनों के लिए कोई स्थान नहीं है। इनके बारे में सोचना भी पाप है। 

नोट: मेरे इस लेख का उद्देश्य केवल और केवल “दान” और “अर्पण” की भावनाओं में जो अंतर मैंने समझा है उसको अपने पाठकों से साझा करना है। इस में प्रदर्शित डाक टिकिट की जो छवियाँ हैं, वे प्रतीकात्मक हैं। वास्तविक डाक टिकिट और मेरे द्वारा भेजी प्रविष्टि इस लेख में दिखाए गए चित्रों से भिन्न थीं। आशा करता हूँ कि भारतीय डाक विभाग और टाइम्स आई रिसर्च फाउंडेशन, दोनों ही इस मामले को कोई तूल न देंगे।

Modi, Yoga & Pseudoscience

“To err is human; to forgive divine!”

But, can Prime Minister Narendra Modi be pardoned for a monumental mistake he has made because of which every Indian, regardless of his caste, creed, colour, sex or status is likely to pay heavily. It is a blunder, the ill effects of which will start manifesting sooner than later.

Shri Narendra Modi tried (mind the stress on the word, “tried”) to popularise Yoga in India. People gathered in large numbers and did it, at least once a year on a day reserved for the activity. Some did it to be seen on the TV screen; some to get the free Tee shirts and the Yoga mats––each had a reason, to do Yoga on the occasion. Lure of a day off from the office to be a part of the annually organised Yoga camp also motivated the office goers. Then there were secular people who thought that it was an effort to saffronise the Indian population. There were others who thought Surya Namaskar was a Hindu ritual. Of course, there was a small chunk of the population that took Modi and Yoga seriously.

With his conviction Modi found a definitely bigger market for Yoga in the West. People in the US and Europe took to Yoga more seriously. China has also accepted Yoga in a big way. Even the Saudis have no qualms about doing the Surya Namaskar. ††

Yoga se Hoga

The UN even declared June 21 as the World Yoga Day. Credit must go to Shri Modi for popularising Yoga all over the world. And that’s where he has faltered.

It is simple science. When we breathe we take in air and consume the oxygen contained in the air. Almost all of Yogic exercises are based on modulating breathing. When people do Yoga they take in more air (read “oxygen”). Their organs, the brain in particular benefits from the excess oxygen it gets. Now how does that matter?

Elementary!

Like water on this planet, oxygen in the atmosphere is limited. If some people take in more of it, those who don’t do Yoga would be (naturally) deprived of their legitimate share of the life giving substance. In fact, by the time they would get out of their beds in the morning, probably the Yogis would have consumed most of the oxygen. Such people (who don’t do Yoga) would suffer from Hypoxia (relative lack of oxygen) and respiratory diseases. Air pollution will make their condition worse.

Survival of the Yoga Practitioner

I don’t want to paint a doomsday scenario. Suffice it to say that, looking at the trend, the US, Europe, Saudi Arabia, China and some other countries will take away most of the atmospheric oxygen; other countries, including India will be deprived of the same. Wars over oxygen can’t be ruled out. There is only one consolation that people in Pakistan have not accepted Yoga. Needless to say a people less inclined to doing Yoga will tend to suffer unless treaties are signed to limit the number of people in each country doing Yoga. I don’t see that happening any time soon. Thus popularising Yoga around the world before ensuring its popularity in India has been a monumental mistake.

Sometime in the future each man will have to fight for his share of oxygen. Only the fittest will survive. There is little choice but to embrace Yoga. I have done it.

[This article is inspired by the same science, which teaches us that river water that is used to generate electricity is rendered useless for irrigation.]   

बड़ी सोच!?

सुबह से करीम बारह कारें साफ कर चुका था। यह तेहरवीं गाड़ी थी। हाथ में कपडा लिए, वह डर-डर कर उस चमचमाती लाल फेरारी कार की तरफ बढ़ा और फिर ठिठका और रुक ही गया। वह नोएडा सेक्टर-18 के रेडिसन ब्लू होटल के सामने पार्क की गयी गाड़ियों पर कपड़ा मार कर दो पैसे कमा लेता था। प्रायः महंगी कारों की सफाई करने से ज्यादा पैसे मिल जाया करते थे। उसके मन में पनपते डर का एक कारण था। पिछले हफ्ते ही एक कार मालिक ने उसकी पिटाई कर दी थी। उसका का गुनाह था––कार के मालिक से बिना पूछे गाड़ी को हाथ लगाना। ग्यारह साल के करीम को दो चांटों के लगने से होने वाली शारीरिक पीड़ा का आभास तक नहीं हुआ था परन्तु अपने साथ हुई बदसलूकी से लगी चोट का दर्द वह भुला नहीं पाया था।

उसने उस फेरारी जितनी आलिशान कार पहले कभी नहीं देखी थी। चुम्बकीय आकर्षण था उस कार में; वह उस के नज़दीक जाकर उसे निहारने लगा। उसका लाल रंग, उसके बम्पर, उसके सामने की जाली, उसकी लाइटें, उसका डैशबोर्ड, उसकी साफ-सुथरी सीटें… एक दम नई थी वह कार। अभी तो उसकी सारी सीटों के पॉलिथीन के कवर भी नहीं उतरे थे और बोनट पर सिन्दूर से बना स्वस्तिक का निशान बिलकुल ताज़ा लग रहा था। स्टीयरिंग पर बंधी माता रानी की चमकवाली लाल चुन्नी, और साइलेंसर पर बंधा काले रंग के धागे का लच्छा कार के मालिक की देवी माता में आस्था को दर्शा रहा था। 

करीम अपने आप को रोक नहीं पाया था; ताका-झांकी कर रहा था। अपने चार दिन पुराने अनुभव को भूल सा गया था। तभी उसने लम्बे कदम भरते एक छः फुटे नौजवान को अपनी तरफ आते देखा। वह मोबाइल पर किसी से बात कर रहा था। करीम सहम सा गया। पल भर में उसे फिर से चार दिन पहले मर्सिडीज़ के मालिक से पड़े झापड़ याद आ गए।

“ओके अनु… तो फिर आज शाम हम गोल्डन ड्रैगन जा रहे हैं। मैं तुम्हें छः बजे घर से पिक अप करूंगा। वी विल गो फॉर अ लॉन्ग ड्राइव बिफोर डिनर,…  बाय बाय! लव यू।” कहते हुए युवक ने मोबाइल बंद किया और करीम पर प्रश्न भरी निगाहें डालीं। करीम ने कार को हाथ नहीं लगाया था फिर भी वह डर-सहम सा गया।

अगर नज़रें क़त्ल कर सकतीं तो युवक की नज़रों से करीम की मौत संभावित थी।

“स स स ररर, कार साफ कर दूँ?” करीम हाथ जोड़ कर मिमियाने लगा। “अच्छे से चमका दूंगा। यह देखिये, यहाँ पर धूल बैठ गयी है।”

युवक को सोचता हुआ देख कर करीम ने थोड़ा साहस जुटाया और आगे बोला, “सर, सिर्फ पाँच मिनट लूँगा।” छोटी सी उम्र में करीम ने यह जान लिया था की बड़े लोगों को अच्छा लगता है जब कोई उनके समय की कद्र करे। युवक को ऐसा लगा जैसे कि करीम ने उसे कुछ और फोन कॉल्स करने का मौका दे दिया हो। उसने सिर हिला कर करीम को कार साफ करने की अनुमति दे दी और फिर से मोबाइल पर एक नंबर डायल करने लगा।

“हैलो, मैं अमित कालरा बोल रहा हूँ… यस, यस, मैंने ही कॉल किया था।  जी हाँ, टेबल फॉर टू… कैंडल लाइट… ओके, कनफर्म्ड।”

अमित कालरा कॉल किये जा रहा था। उन कॉल्स के दौरान उसकी नज़र करीम पर टिकी थी।

करीम बड़ी तन्मयता से कार साफ कर रहा था। कपड़े से पोंछ कर वह अलग-अलग कोण से कार को देख कर तस्सली कर रहा था कि चमक में कहीं कमी न रह जाय। करीम की मेहनत से युवक प्रभावित था। करीम के फटे कपडे देख कर उसे बच्चे पर दया भी आने लगी थी। मन ही मन उसे अच्छी टिप देने का निश्चय कर लिया था अमित ने।

“हेलो भैया, व्हाट अ फैबुलस कार? इट रिएली फ्लाईज़… सुपर्ब… आई एम एंजोयिंग ड्राइविंग इट। तुसि ग्रेट हो। आई लव यू, बिग ब्रदर।” अमित ने एक और कॉल किया।

अमित कालरा आज खुश था। और क्यों न होता? उस के मन में अपनी नई फेरारी में पहली बार अनु को सैर कराने की उमंग जो थी। पर वह असमंजस में भी था, “यमुना एक्सप्रेसवे पर जाना ठीक होगा या डीएनडी पर सैर का आनंद आएगा? आज डिनर के वक्त हिम्मत कर के अनु को प्रोपोज़ कर ही दूंगा। उसे फूल कम पसंद हैं, डार्क चॉकलेट्स ठीक रहेगीं…।”

मई की गर्मी में भी अमित कालरा वसंत ऋतु में खिले फूलों की ताज़गी को महसूस कर रहा था।

न जाने कैसे पंद्रह मिनट बीत गए। मन में चल रहे अनेक संवादों में अमित कुछ इस तरह खो गया था कि समय का पता ही नहीं चला। जब विचारों के भंवर से अमित उबरा तो अपने सामने करीम को पाया। अमित उस गरीब की मुस्कुराहट के पीछे छुपी गम्भीरता को महसूस कर रहा था। अमित ने पर्स खोल कर करीम के हाथ में एक पांच सौ रुपये का नया नोट रख दिया।

निस्संदेह आज कुछ खास बात थी; अमित के मन में उदारता उमड़ रही थी। उम्मीद से बहुत अधिक पैसे पाकर करीम की ख़ुशी का कोई ठिकाना न रहा। उसका चेहरा अब एक खुली किताब था जिसे अमित आसानी से पढ़ सकता था। “सर, ये तो मेरे तीन दिन से ज्यादा की कमाई हो गयी,” करीम ख़ुशी से पगला सा गया ।

“क्या करोगे इन पैसों का,” अमित ने वैसे ही गाड़ी में बैठते हुए मुस्कुराते हुए पूछ लिया। करीम के उत्तर में उसकी कोई दिलचस्पी नहीं थी।

“सर, सीधा घर जाऊँगा। अगले कुछ दिन गाड़ियाँ साफ नहीं करूंगा। पढाई करुँगा। अगले हफ्ते परीक्षा है। इन पैसों से घर का काम चल जाएगा।” करीम की बातें सुन कर अमित के मन में अचानक उत्सुकता और दया के भावों की छोटी सी सुनामी आ गयी।

“कहाँ रहते हो?”

“सर, पास ही में; सेक्टर-52 में जो फ्लाईओवर बन रहा है उसके पास की झुग्गिओं में मेरा घर है। अम्मी वहीँ साइट पर काम करती हैं।”

“कालरा कंस्ट्रक्शंस की साइट पर?”

“सर नाम तो नहीं मालूम पर हमारे मालिक ऐसी ही लाल गाड़ी में कभी-कभी आते हैं। ताड़ जैसे ऊँचे हैं, बिलकुल आप जैसे दिखते हैं।”

अमित कालरा के चेहरे पर मुस्कराहट का आना स्वाभाविक था––कालरा कंस्ट्रक्शंस उसके पिता की कंपनी थी जिसे उसका भाई सुमित चलाता था। अमित ने अभी-अभी एमिटी यूनिवर्सिटी से एम बी ए पास किया था। सी.जी.पी.ए.  बहुत कम था––डिग्री तो नाम के लिए चाहिए थी, आगे चल कर तो घर का बिज़नेस ही संभालना था। घर पर सभी बहुत खुश थे।

“आओ में तुम्हें वहाँ छोड़ दूँगा। मैं उधर ही जा रहा हूँ,” अमित के मन में उदारता और दया भाव ने एक और हिलकोरा लिया। उसने मुस्कुराते हुए करीम को कार में बैठने का इशारा किया। अमित सोच रहा था कि उस गरीब की जिंदगी का वह एक बड़ी यादगार वाला दिन होगा। अमित को ख़ुशी थी कि वह उस बच्चे को एक खास ख़ुशी देने जा रहा था। उसे, खुद को होने वाली अनुभूति में कहीं––थोड़ा सा सही––घमंड घुला हुआ था।

करीम सकपकाया। वह सपने में भी ऐसी कार में बैठने की बात नहीं सोच सकता था। वह कार के खुले दरवाजे की ओर बढ़ा और रुक गया। फिर जल्दी से उसने अपनी टूटी चप्पलें––जिनकी सेफ्टी पिन से मरम्मत की गयी थी––उतारी और उनको थपथपा कर उनकी धूल को निकलाकर उन्हें साफ किया। फिर जल्दी से जेब से एक गन्दा सा कपड़ा निकाला और उसे कार की पॉलिथीन से कवर की गयी सीट पर बिछा दिया––”सर, रुमाल फैला देता हूँ, सीट गन्दी नहीं होगी।”

करीम की ख़ुशी का ठिकाना न था।

करीम की ख़ुशी में अमित आनंदित हो रहा था। सेक्टर-18 के गुरूद्वारे के सामने से निकलते हुए अमित के मन में न जाने क्या बात आयी कि सीधे सेक्टर-52 की तरफ जाने के बजाय उसने जी.आई.पी. के सामने यू-टर्न ले लिया और फिल्म सिटी की ओर चल पड़ा। वह चाहता था कि करीम को थोड़ी लम्बी सैर कराए।

खुश लेकिन सहमा सा, करीम कभी कार में तो कभी बाहर देख रहा था। कार के स्टीरियो पर बजते गाने की आवाज़ कम करते हुए अमित ने बोलना शुरू किया, “कैसा लग रहा है?”

“बहुत अच्छा,” पुलकित करीम चहचहाया।  

“जानते हो, मुझे यह कार मेरे भाई ने मेरे बर्थडे पर गिफ्ट में दी है?”

“अच्छा!?” करीम की आँखों में प्रश्न और विस्मय से भरी प्रशंसा थी।

“वे तो मुझे रेंजरोवर देना चाहते थे पर मैं फेरारी के लिए अड़ गया,” अमित खिलखिलाया और फिर जोर देकर बोला, “… … सोच बड़ी होनी चाहिए।”

ये बातें करीम की समझ से बाहर थीं। फिर भी वह जवाब में आँखें बड़ी कर के सिर हिला रहा था।

“और घूमना है?”

“नहीं सर, बस अब मुझे उतार दें।”

“कोई बात नहीं, मैं तुम्हें साइट पर छोड़ दूँगा।”

महामाया फ्लाईओवर की ओर से एक लम्बा चक्कर लगाते हुए अमित ने कार को सेक्टर-52 की झुग्गिओं के सामने ला कर रोक दिया और करीम की और देख कर एक बार फिर मुस्कुराया, “परीक्षा के लिए बेस्ट ऑफ़ लक।”

“थैंक यू, सर,” करीम ने कार का दरवाज़ा खोलने की कोशिश करते हुए कहा। उससे दरवाजा न खुलते देख अमित ने मदद की। कार से उतरते-उतरते करीम रुक गया और अमित की ओर देख कर विनती की, “सर, प्लीज एक मिनट रुक जायें, मैं अभी लौट कर आता हूँ।”

करीम की मेहनत और लगन पर फिदा अमित ने हामीं भर दी और अपना मोबाइल उठा लिया और व्हाट्सएप मैसेजेस देखने लगा।

दो ही मिनट में करीम वापस आ गया। उसकी गोद में एक छोटा सा बच्चा था जिसे वह बड़ी मुश्किल से उठा पा रहा था। कार के पास आकर वह अमित से बोला, “सर, ये मेरा भाई आरिफ है।” फिर आरिफ को ऊँगली से दिखा कर बोला, “आरिफ, पता है, आज इन साब ने मुझे इस मोटर में बिठा कर घुमाया है। ये इनके बड़े भाई ने इनको तोहफे में दी है। एक दिन मैं भी तुझे ऐसी ही गाड़ी तोहफे में दूँगा।”

अमित ने एक मिनट बाद कार आगे बढ़ा दी। फिर देर तक कार के रियर व्यू मिरर में दोनों बच्चों को खिलखिला कर टा-टा करते देखता रहा।

“सोच बड़ी होनी चाहिए।” अमित की अपनी ही आवाज़ उसके कानो में गूँज रही थी।

Dear Mr Kejriwal, are you listening?

Dear Mr Kejriwal,

You began your journey of sweeping the muck in Indian Politics with baby steps alongside Anna Hazare. Soon you outpaced him; the old soldier could not march by your side. You left him behind. Nothing is wrong about that decision of yours because when a mission is still unaccomplished; it is not incorrect, unfair or unethical to leave behind the weak and the wounded. They can be attended to; their wounds nursed, and their contribution to the war effort can always be lauded after the flag has been hoisted on the objective. In some cases, a nicely worded epitaph can make up for everything.

The problem is of shifting goal posts and ever-changing objectives. Selection and Maintenance of Aim is a principle of war. It is difficult; nay impossible to recall a victory wherein this proven principle has been flouted. Needless to say, the journey is long and arduous; you have miles to go. Be sure what you want to aim at: purifying Indian politics or uplifting aam admi or uprooting BJP with the help of others with whom you otherwise don’t see eye to eye. 

I hear you have done remarkable job in some walks of Delhi’s life; your team’s effort to provide quality education and healthcare is, beyond any doubts, unparalleled; it deserves a very special mention and appreciation. May you have the resources, power and support to keep going great guns.

Now, how does one keep going when people are jumping off the bandwagon at regular intervals? Some members of your core team who have left you have compared you with Napoleon. Napoleon––not the French Emperor, but the Napoleon of George Orwell’s Animal Farm. And, Ms Shazia Ilmi thinks she was the Boxer (of the same epic). Others who left you also perhaps thought so, but didn’t say it openly. But, you don’t have to worry on that count. Animal Farm, written nearly three quarters of a century ago as a satire on communism fits Indian politics of today. It fits very well! Rejoice in the fact that you don’t stand alone––every party has Napoleons. When I look at you (people) dark humour amuses me to no end.

That’s just the preface to draw your attention; what follows is more serious. I only hope you have the time, and the inclination too, to read on.

What has struck my imagination recently is your decision to consider granting free travel to women in DTC buses and Delhi Metro. The reason you have extended this proposal is––women’s safety. It baffles me to no end. How can making the ride free for women in public transport enhance their safety? A large number of women can afford public transport and are already availing DTC and Delhi Metro services. The additional number of women who will get attracted to (government) public transport because of the freebie will be miniscule. And, if I am not grossly wrong, in these times of #MeToo, by this very gesture of yours, you might end up offending many a self-respecting woman who seek absolute equality in thoughts and actions.

If you still implement your plan, I fear that you will start a practice, which will nurture yet another breed of people getting used to free lunches with added burden on the state. Mind you Mr Kejriwal, the public are smart. Blame yourself for it; you made them smart. I remember you telling them long ago, to accept whatever freebies (and bribes) other parties were giving, and still vote for AAP. I will not be surprised if, in the next assembly elections women do just that––accept your freebie and still go by their choice.

Freebies

Think of it, there are umpteen ways of making women safer than by just giving them free rides. Directing the resources and energies towards, and focussing them on the source of crime can make people, let alone women in our cities safe.

I have a suggestion, if you care.

We have a large population living in slums all over the city, on footpaths, and under the flyovers. People living in those places work as labourers on construction sites and as servants in bungalows, offices and factories. The stark reality is that Delhi “needs” them. Delhi cannot do without them––Delhi will come to a standstill if they are not there. Their children sell pirated bestsellers, used flowers, hand towels and ballpoint pens on traffic lights. To earn a livelihood, some of them take to crime. And, if one was to go by what our films depict, they are picked up by bigger fish to get their works accomplished.

Such places where survival is a daily chore, people are vulnerable. Those places can easily turn into nurseries for crime.

Convert those slums into double-storey accommodation with the very basic amenities (drinking water, sanitation and electricity). Give them medical facilities and schools. That will demolish some of the nurseries where little ones get to learn their basics of crime. How so ever difficult it might appear, it is achievable. All that is required is a strong will to do it.

A single court decision in the US––to legalise abortion––brought down the crime rate drastically. But that took nearly twenty years. If you give a decent livelihood to the poorest of the poor today, it is just likely that the positive effect might be felt twenty years hence.

Are you ready to wait that long, Mr Kejriwal?

Remember, a lot can be achieved in this world, if one is not bothered about who gets the credit for the achievement or, who reaps the harvest. Are you ready to switchover from the alleged Napoleon’s role to that of Boxer’s in the yet-to-be-conceptualised Animal Farm Revisited? Keep the answer to yourself.

At this juncture, may God bless you with the wisdom to choose the right path.

Yours truly,

Group Captain Ashok K Chordia (Re-attired)

An Indian Air Force Veteran

Cooking the Goose of the Gender

It is important to make sure that one doesn’t offend people by inadvertently using language that might be considered sexist. In these times of #MeToo, it is even more important to mind one’s P’s and Q’s. For several decades now, many words and well-accepted expressions have come to be seen as discriminatory––discriminatory against women, in particular. It could be because of the nature of job being done mainly by men in the bygone days e.g. businessman, postman and fireman etc. Some other words give a distinctly different identity to women than their male equivalent (e.g. actor/actress; mayor/ mayoress, steward/stewardess, heir/ heiress, hero/ heroine, manager/ manageress). Some of these words, while giving the women a different identity have, over a period of time, come to convey a somewhat different status for them.

Feminists and well-meaning people on either side of the gender divide have been trying hard to remove the bias in the language. So now we have words like chairperson or chair (instead of chairman), head teacher (instead of headmaster/ headmistress). Mrs, for a married woman is passé; Ms is the right form to use. It is also customary now to use a term, which was previously used exclusively for men to refer to both men and women. For example, authoress, poetess and actress, have been replaced by author, poet and actor. The more conscious of the English language users have begun using human race or humankind instead of mankind. And until acceptable words/ terms are coined, words like princess, tigress, lioness, abbess, duchess, usherette, seamstress and seductress etc. will remain in use. One is less likely to take offence.

We do not mind using he/ she, him/ her and his/ her any number of times in our correspondence to remain gender neutral. Here are some examples:

  • He/ She (the candidate) must report at the reception by 10 am.
  • The HR department will inform him/ her about the likely dates.
  • A scholar is expected to submit his/ her report in a month.
  • The student can seek advice from his/ her

While the linguists and the feminists have been striving to achieve gender neutrality, people are exercising their right to cook the goose of the gender. I know of a lady from the Hindi heartland of India who prefers to use the male verbs (in Hindi) for herself e.g. करता हूँ, खाता हूँ, जाता हूँ,… etc.

Mrs Indira Gandhi didn’t like to be called ‘Madam’. Legend has it that once when she was on a state visit to the US, the American President wanted to know (through the then Indian Ambassador, Mr BK Nehru) how to call her, “Madam Prime Minister or Prime Minister?” She said, “Tell the President I don’t care what he calls me; he can call me Mr Prime Minister or just Prime Minister. But tell him also that my colleagues call me Sir.”

TOI Gender IMG_9170
Cooking the Goose of the Gender

Are the editorial staff of the Times of India following in the footsteps of Mrs Gandhi’s colleagues?

 

मेरा भारत (वाकई) महान!

आजकल देश में बारहों महीने देश-भक्ति की लहर होती है। कोई न कोई  राजनीतिक दल या समुदाय किसी न किसी महान व्यक्ति को याद कर रहा होता है––कभी लोग गाँधी को, तो कभी भगत सिंह को; कभी नेहरू को तो कभी महाराणा प्रताप को याद करते हैं। कोई न मिले, तो लोग अपने श्रद्धा सुमन देश पर मर-मिटने वाले शहीद जवानों पर ही अर्पण कर देते हैं। देश-भक्ति के छोटे-बड़े हिलकोरों से भारत सदा मनमस्त रहता है। गणतन्त्र दिवस और स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर तो मानो देश-भक्ति की सुनामी ही आ जाती है।

राष्ट्रपर्वों पर राष्ट्रध्वज की शान निराली होती है। न जाने कहाँ-कहाँ से निकल कर तिरंगा हर हिलती-डुलती और चलती-फिरती वस्तु और वाहन पर शान से लहराता दिखाई देने लगता है। फिर झण्डा प्लास्टिक का हो, सिल्क का हो, या असली खादी का, कोई मायने नहीं रखता। देशवासियों की भावनाओं का ध्यान रखते हुए कुछ लोग कागज़-कपडे वाले मुद्दे को तूल नहीं देते, तो कुछ उस ‘तुच्छ’ मुद्दे को (फिलहाल) दरकिनार कर देते हैं। ऐसे समय तिरंगे की बिक्री शीर्ष पर होती है। और क्यों न हो, उसका एक-एक ताना-बाना देश प्रेम की भावना से जो रंगा होता है। लोग जो भी कहें, तिरंगा तिरंगा होता है, उसका भी अपना दिन होता है।

और फिर, ऐसे समय शब्द, सुर, ताल और लय कैसे भी हों––गली, नुक्कड़ और चौराहों पर लाउड-स्पीकरों पर देश-भक्ति से सराबोर गीत निर्जीव से निर्जीव व्यक्ति में प्राण फूँक देते हैं। इसी प्रकार, टीवी चैनलों पर देश-भक्ति से ओत-प्रोत सीरियलों और फिल्मों का अम्बार सा लग जाता है। एक प्रकार से देश-भक्तों में देश-भक्ति दर्शाने की होड़ सी लग जाती है।

देश भक्त फिल्म निर्माता और अभिनेता न केवल अपनी देश के युद्ध गौरव को दर्शाती बहुसितारा (मल्टीस्टारर) फिल्मों को इसी दौरान पर्दों उतरने की उधेड़बुन में रहते हैं, बल्कि सिद्धिविनायक मंदिर में माथा टेक कर उन फिल्मों की सफलता के लिए मन्नत भी मांगते हैं। भगवान फिल्म उद्योग की सुनता भी खूब है। देखिये न, लोग मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी को कम, सनी देओल को 1971 भारत-पाक युद्ध का नायक ज्यादा मानते हैं; मेरी कॉम से ज्यादा प्रियंका चोपड़ा को पहचानते हैं।

मेरा भारत (वास्तव में) महान है!

इन राष्ट्रीय पर्वों के बारे में मेरे बचपन की यादें सीदी-सादी हैं और आज, पचास साल बाद, भी बिलकुल स्पष्ट और ताजा हैं। क्यों न हों? बस्ते की झंझट नहीं, आधे दिन बाद स्कूल की छुट्टी हो जाती थी। ध्वजारोहण के बाद सब “वन्दे मातरं” गाते थे; प्रिंसिपल के भाषण के बाद देश भक्ति के कुछ गीत और नाटक होते थे। थोड़ी देर देश के वीर शहीदों के बारे में सोचते थे, उनसे प्रेरित होते थे। “भारत माता की जय” के नारे और वीर पुरुषों की गाथाएं बालमन को देश के प्रति उदात्त भावना से भर देती थीं। चाहे मोतीचूर के लड्डूओं के बँटते ही घर की तरफ गिल्ली-डंडा खेलने भागते थे, लेकिन भावना कुछ ऐसी होती थी कि कहीं भी, कभी भी, “जन गण मन….” की धुन कानों में पड़ती थी, तो सबकुछ छोड़ कर सीधे खड़े हो जाते थे। और फिर, पूरे वर्ष महारानी लक्ष्मीबाई, महाराणा प्रताप, शहीद भगत सिंह, चंद्र शेखर आजाद आदि की चर्चा होती थी। भावना कुछ ऐसी होती थी, जिसकी परिकल्पना सरलता से शब्दों में नहीं की जा सकती है।

मेरा भारत तब भी महान था!

फिर से वर्तमान में…

हाल ही में, मैं अपनी तीसरी पीढ़ी के एक बालक के साथ कार में सैर रहा था। बालक निश्चय ही मेधावी है। रास्ते में करीब साठ फुट ऊँचे खम्बे पर लहराता तिरंगा दिखाई दिया। झण्डा देख कर मेरा सीना गर्व से फूल गया। मैंने सम्मान से उसे निहारा और बालक से पूछा, “बेटा, जब आप अपना राष्ट्रीय ध्वज देखते हैं, तो आपके मन में कैसे विचार आते हैं?”

मेरा भारत महान!

उस अपेक्षापूर्ण प्रश्न के उत्तर की प्रतीक्षा करने में मुझे कोई ऐतराज नहीं था।

परन्तु…

परन्तु, बालक ने एक बार झंडे को और एक बार मुझे अर्थहीन दृष्टि से ताका। सच मानिये, उस छोटे से बालक ने मुझे, और (मेरे प्यारे) झंडे को “देखा नहीं”, उसने असल में हमें “ताका”। फिर वह तपाक से और भावहीनता से बोला, “नानाजी, वास्तव में, कुछ नहीं; तिरंगे को देख कर मेरे मन में कोई विचार नहीं आते हैं।”

मुझ पर मानो गाज गिर गयी। परन्तु मैं भी हार मानने वाला कहाँ था? भूतपूर्व वायु-योद्धा जो हूँ।

“क्या तिरंगा आपको देश के वीरों की और शहीदों की याद नहीं दिलाता है? इसे देख कर आप के मन में देश प्रेम की भावना जागृत नहीं होती है?” मैंने बच्चे से हर शब्द पर अत्यधिक जोर देकर पूछा। मेरी उम्मीदों का बांध और ऊँचा हो चुका था।

उस बालक के उत्तर ने मेरी उम्मीदों के बांध को तहस-नहस कर दिया और उसकी तबाही से आने वाले सैलाब में मैं बह गया, डूब गया। अवाक, निस्तब्ध… मैं उसे देखता ही रह गया। वह बड़ी सहजता से बोला, “नानाजी, मुझे इतना अधिक होमवर्क करना होता है कि मेरे पास देश और तिरंगे के विषय में सोचने का समय ही नहीं बच पता है।”

हतप्रभ, मैं उस नादान को पथराई आँखों से देखता ही रह गया।

भारी मन से मैंने कार आगे बढ़ा दी।

अभी थोड़ा ही चले थे कि एक विशाल विज्ञापन-पट (होर्डिंग) पर गाँधी जी की भव्य तस्वीर देखी। मेरे मन में देश-भक्ति का उबार एक बार फिर आया। आया और चला गया।  मेरी हिम्मत नहीं हुई कि नन्हे बालक से पूछ लूँ, “ये कौन हैं?” मन में आशंका थी कि कहीं बच्चा जवाब में यह न कह दे, “नानाजी, यह तो बेन किंग्सले है।”

निश्चित ही, मेरा भारत महान है। सदैव रहेगा।

देश प्रेम और देश भक्ति पर अभी और कहना बाकी है…

(यह पोस्ट मेरे अंग्रेजी पोस्ट “I Love My India” का हिंदी रूपान्तर है, जिसके लिए मैं अपनी प्रिय बहन प्रोफेसर रीता जैन का आभारी हूँ।)